[science] - [arts] -[commerce] - [technical] - [How to] -[Hindi] -[english] -[current affairs] - [results] - [exams] - [course] - [pre papers]


Search This Blog

Sunday, July 21, 2019

sarvanam-सर्वनाम से आप क्या समझते है?

 sarvanam-सर्वनाम से आप क्या समझते है? - hindi vyakaran 


संज्ञा के स्थान पर परयुक्त होने वाले शब्दों को sarvanam(सर्वनाम) कहते है. 



Hindi vyakaran
Sarvanam in hindi



 

sarvanam 


sarvanam ki paribhasha 


सर्व का अर्थ है सबका यानी जो शब्द सब नामों (संज्ञाओं) के स्थान पर प्रयुक्त हो सकते हैं,  sarvanam (सर्वनाम) कहलाते हैं ।

sarvanam in hindi  


दूसरे शब्दों में,जैसे- मैं, हम, तू, तुम, वह, यह, आप, कौन, कोई, जो इत्यादि ।

sarvanam ke bhed (सर्वनाम के भेद)


  1. पुरुषवाचक सर्वनाम
  2. निश्चयवाचक सर्वनाम
  3. अनिश्चयवाचक सर्वनाम
  4. संबंधवाचक सर्वनाम
  5. प्रश्नवाचक सर्वनाम
  6. निजवाचक सर्वनाम

          sarvanam ke bhed (सर्वनाम के भेद)



          1. पुरुषवाचक sarvanam  (सर्वनाम)


          जिस sarvanam  का प्रयोग वक्ता या लेखक स्वयं अपने लिए अथवा श्रोता या पाठक के लिए अथवा किसी अन्य के लिए करता है वह पुरुषवाचक sarvanam  सर्वनाम कहलाता है ।

          पुरुषवाचक सर्वनाम तीन प्रकार के होते हैं-


          1. उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम- मैं, हम, मुझे, हमारा
          2. मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम- तू, तुम, तुझे, तुम्हारा
          3. अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम- वह, वे, उसने, यह, ये, इसने


          2. निश्चयवाचक sarvanam  (सर्वनाम)


          जो sarvanam सर्वनाम किसी व्यक्ति वस्तु इत्यादि की ओर निश्चयपूर्वक संकेत करें वे निश्चयवाचक sarvanam (सर्वनाम) कहलाते हैं ।
          इनमें- यह, वह, वे- सर्वनाम शब्द किसी विशेष व्यक्ति आदि का निश्चयपूर्वक बोध करा रहे हैं, अतः ये निश्चयवाचक सर्वनाम है ।


          3. अनिश्चयवाचक sarvanam  (सर्वनाम)


          जिस sarvanam (सर्वनाम) शब्द के द्वारा किसी निश्चित व्यक्ति अथवा वस्तु का बोध न हो, वे अनिश्चयवाचक sarvanam  (सर्वनाम) कहलाते हैं ।
          इनमें कोई और कुछ सर्वनाम शब्दों से किसी विशेष व्यक्ति अथवा वस्तु का निश्चय नहीं हो रहा है । अतः ऐसे शब्द अनिश्चयवाचक sarvanam  (सर्वनाम) कहलाते हैं ।


          4. संबंधवाचक sarvanam  (सर्वनाम)


          परस्पर एक-दूसरी बात का संबंध बतलाने के लिए जिन सर्वनामों का प्रयोग होता है उन्हें संबंधवाचक sarvanam  (सर्वनाम) कहते हैं ।

          इनमें जो, वह, जिसकी, उसकी, जैसा, वैसा -ये दो-दो शब्द परस्पर संबंध का बोध करा रहे हैं । ऐसे शब्द संबंधवाचक 

          इनमें जो, वह, जिसकी, उसकी, जैसा, वैसा -ये दो-दो शब्द परस्पर संबंध का बोध करा रहे हैं । ऐसे शब्द संबंधवाचक sarvanam  (सर्वनाम) कहलाते हैं।


          5. प्रश्नवाचक sarvanam  (सर्वनाम)


          जो सर्वनाम संज्ञा शब्दों के स्थान पर तो आते ही है, किन्तु वाक्य को प्रश्नवाचक भी बनाते हैं वे प्रश्नवाचक सर्वनाम कहलाते हैं ।
          जैसे- क्या, कौन, कैसे इत्यादि ।


          6. निजवाचक sarvanam  (सर्वनाम)


          जहाँ वक्ता या लेखक अपने लिए आप अथवा अपने आप शब्द का प्रयोग हो वहाँ निजवाचक सर्वनाम होता है ।
          जैसे- मैं तो आप ही आता था । मैं अपने आप काम कर लूंगा ।

          यह भी पढ़े →   
             
                संधि (व्याकरण) 

          इस पोस्ट में हमने sarvanam (सर्वनाम) और उसके सभी bhedo का अध्यन किया जानकारी अच्छी लगे तो कमेंट करके जरूर बताये 

          No comments:

          Post a Comment